in Library Artifacts
Published on: 21 June 2019

Contributor: छत्तिसगढ़ी पंडवानी कला मंच, रायपुर

 पंडवानी के पुरोधा श्री झाडूराम देवांगन जी वेदमती शैली के शीर्षस्त एवं सिंद्धस्त कलाकार थे. महाभारत कथा को लोक धुन में बांध कर जो प्रस्तुति करते थे वे अद्भुद और मनमोहक होता था. पंडवानी गायन का एकल अभिनय भारत वर्ष में बेजोड़ है. महाभारत कथा पर आधारित संपूर्ण भारत के अन्य प्रांतो में भी आंचलित भाषाओ में लोक प्रस्तुति किया जाता है लकिन छत्तीसगढ़ की पंडवानी कला का मुकाबला नहीं कर पाया 

 

This content has been created as part of a project commissioned by the Directorate of Culture and archaeology, Government of Chhattisgarh to document the cultural and natural heritage of the state of Chhattisgarh.

Book
Publisher
छत्तिसगढ़ी पंडवानी कला मंच, रायपुर