चन्द्रशेखर चकोर


लोक खेल उन्नायक, शोधकर्ता एवं लेखक
रायपुर, छत्तीसगढ़

सामूहिक लोक खेल में सामग्री के नाम पत्थर के चार टुकड़े होते हैं। अधिकतर खपरे के टुकड़े खेल में सम्मिलित किये जाते हैं। क्योंकि खपरे के टुकड़े को एक के ऊपर एक क्रमवार रखा जा सकता है।इस खेल के लिए पांच खिलाड़ियों की आवश्यकता होती है। फल्ली का खेल आँगन या चबूतरे पर आसानी से खेला जाता है। उक्त स्थान पर, छुही (सफ़ेद मिट्टी) या कोयले से लकीर खींच कर लगभग चार-पाँच मीटर लम्बा व चौड़ा एक वर्गाकार डब्बा बनाया जाता है। उक्त डिब्बे के अंदर धन चिन्ह(प्लस साइन) की तरह लकीर खींचकर उसे चार वर्गाकार डिब्बों में बांट दिया जाता है। चारों डिब्बों का जो मिलन बिन्दु होता है वहां पर सामग्री रखी  जाती  है।  साफर फत्ता की मदद से लोक खेल को खेलना प्रारंभ किया जाता है।

 

This content has been created as part of a project commissioned by the Directorate of Culture and Archaeology, Government of Chhattisgarh, to document the cultural and natural heritage of the state of Chhattisgarh