Bastar

Displaying 1 - 10 of 73
Rajeev Ranjan Prasad
बस्तर के राजवंश की अधिष्ठात्री दंतेश्वरी देवी के सम्मान में प्रति वर्ष होली के उपरांत फ़ाग मड़ई का आयोजन दंतेवाड़ा में किया जाता है। बस्तर दशहरा के सामान यह आयोजन भी राजपरिवार एवं जनसामान्य के सामंजस्य से संपन्न होता है। फाग मड़ई, फागुन शुक्ल की सष्ठी से ले कर चौदस तक आयोजित की जाती है। यह उत्सव बस्तर…
in Article
Anzaar Nabi
  Madai are an ineluctable part of the culture of Bastar. They are meeting grounds for the world of gods, spirits and human beings, in which festivities accompany economic activity and the gathering of communities and their deities. The goddess Danteshwari is the presiding deity of the royal family…
in Module
Shruti Chakraborty
We comb through the unique tribal practices in Chhattisgarh’s heartland, where once the modest comb was highly regarded as a symbol of a Muria man’s love and desire. (Photo Source: Courtesy Mushtak Khan/Sahapedia)   There is no doubt that anything can be turned into an object that symbolises love…
in Article
Mushtak Khan
वनवासियों का जीवन वन सम्पदा पर आधारित रहता है। खेती और शिकार उनकी बुनियादी गतिविधियां हैं जिनसे उन्हें प्रतिदिन का भोजन आदि प्राप्त होता है। नकद पैसा उन्हें मजदूरी अथवा वनोपज को एकत्रित कर उसे बाजार में बेचकर मिलते हैं। कई बार वे वनों से प्राप्त सामग्री से कोई उपयोगी उत्पाद बनाकर उसे वैकल्पिक आय का…
in Article
Ajay Kumar Chaturvedi
तोर पीछवारे में एक पेड़ महुआ, आवा ला लटा छोरी हारे सुन्दरी बाजो हो ललना। जब तोरे आवा ला लटा छोरी हारे। टपकी-टपकी चुवे लागे सुन्दरी बाजो हो ललना रे- 2 राती के महुआ भलनी बिछी खाये। दिने बिछल जोडी हा रे सुन्दरी बाजो हो ललना रे - 2 कोन हर बिछे एक मोरा दूई, कोने बिछल मोरा चारे सुन्दरी बाजो हो ललना रे - 2…
in Audio
Raj Gupta
  Interview with Mr. Raj Gupta.   Mr. Gupta is the District Program Officer (DPO), Livelihoods of Uttar Bastar Kanker, Zila Parishad. As a Development Practitioner he has extensive experience of working with the adivasi communities of Uttar-Bastar Kanker district of Chhattisgarh and have lead…
in Video
Tamarind grows abundantly in the district of Bastar in Chhattisgarh. The collection of tamarind, the treatment of its pods to make tamarind bricks have become a source of livelihood for many in this region. This video shows the process of making tamarind bricks. This content has been created as…
in Video
Anzaar Nabi
इंद्रावती नदी ओडिशा राज्य में निकलती है और गोदावरी नदी में विलय से पहले छत्तीसगढ़ के एक बड़े हिस्से से होकर बहती है। यह छत्तीसगढ़ के विभिन्न समुदायों के लिए पानी और आजीविका का एक बहुत महत्वपूर्ण स्रोत है, इतना है कि इसे अक्सर 'बस्तर की जीवन रेखा' कहा जाता है। यह वीडियो छत्तीसगढ़ राज्य में सुरम्य…
in Video
डॉ. राजेन्द्र सिंह/ Dr Rajinder Singh
  संपूर्ण विश्व में मानव संस्कृति व सभ्यता का उद्भव व विकास नदियों के किनारे ही हुआ है। इसी कारण मानव समुदाय के जीवन व संस्कृति में नदियों का विशेष स्थान है। भारत के मध्य-पूर्व क्षेत्र में स्थित छत्तीसगढ़ राज्य के दक्षिण में स्थित बस्तर संभाग के मध्य में प्रवाहित इंद्रावती, इस क्षेत्र की एक प्रमुख…
in Article
Arunpol Seal
  Image: Women Walking to the Haat with their Produces. This article seeks to dive deep into the life world of the adivasis through trope of Minor Forest Produces (MFP) and portray how these seasonal 'forest products' organize their lives and connects them to the larger circuits of national and…
in Article