Bastar

Displaying 1 - 10 of 79
Arunpol Seal
Lac is one oldest resins known to mankind. It is formed from the secretions of particular species of insect on host trees. In India lac resin is found in the belt that stretches from Maharashtara in the west to West Bengal. In Chhattisgarh, as in other places, lac was earlier found naturally, but…
in Video
Arunpol Seal
  Introduction While the forests of Bastar has something in store for the dwellers across all seasons, the dwellers also respond to it with their seasonal awareness and sensitive engagement; while fibers and creepers are collected year round some of the forest produces are only collected in their…
in Article
Arunpol Seal
  Introduction This brief article seeks to outline and highlight the life and culture of lac rearers and practice of lac rearing in Bastar. Through it we will try to explore some fundamental questions about lac as a forest produce and its history; following which we shall briefly look into the…
in Article
मुश्ताक खान
बांस मानव सभ्यता से जुड़ी प्राचीनतम सामग्रियों में से एक है। पूर्वोत्तर भारत में तो समूचा जीवन ही बांस पर आधारित होता है। मध्य भारत के आदिवासी क्षेत्रों में भी बांस एक मत्वपूर्ण प्राकृतिक सामग्री है जिसका प्रयोग अनेक प्रकार से किया जाता है। वास्तव में बांस के बिना ग्रामीण जीवन की कल्पना नहीं की जा…
in Article
मुश्ताक खान
लाख एक प्रकार का राल अथवा रेज़िन है जो कि एक विशेष कीड़े से प्राप्त होता है। लाख के कीड़े अपनी सुरक्षा हेतु अपने शरीर में उपस्थित सूक्ष्म ग्रंथियों द्वारा राल का स्राव किया जाता है जो हमें लाख के रूप में प्राप्त होता है। इसे वनोपज भी माना जा सकता है क्योंकि इसका उत्पादन जंगल में ही किया जाता है। भारत…
in Article
Surajbati Pardhi and Brijlal Pardhi are bamboo weavers from Bastar. The process of crafting articles out of bamboo begins with bamboo procurement. At first, the stems are split and the knots are removed. The stems are then measured and cut according to requirement. The stems are cleaned and further…
in Video
Rajeev Ranjan Prasad
बस्तर के राजवंश की अधिष्ठात्री दंतेश्वरी देवी के सम्मान में प्रति वर्ष होली के उपरांत फ़ाग मड़ई का आयोजन दंतेवाड़ा में किया जाता है। बस्तर दशहरा के सामान यह आयोजन भी राजपरिवार एवं जनसामान्य के सामंजस्य से संपन्न होता है। फाग मड़ई, फागुन शुक्ल की सष्ठी से ले कर चौदस तक आयोजित की जाती है। यह उत्सव बस्तर…
in Article
Anzaar Nabi
  Madai are an ineluctable part of the culture of Bastar. They are meeting grounds for the world of gods, spirits and human beings, in which festivities accompany economic activity and the gathering of communities and their deities. The goddess Danteshwari is the presiding deity of the royal family…
in Module
Shruti Chakraborty
We comb through the unique tribal practices in Chhattisgarh’s heartland, where once the modest comb was highly regarded as a symbol of a Muria man’s love and desire. (Photo Source: Courtesy Mushtak Khan/Sahapedia)   There is no doubt that anything can be turned into an object that symbolises love…
in Article
Mushtak Khan
वनवासियों का जीवन वन सम्पदा पर आधारित रहता है। खेती और शिकार उनकी बुनियादी गतिविधियां हैं जिनसे उन्हें प्रतिदिन का भोजन आदि प्राप्त होता है। नकद पैसा उन्हें मजदूरी अथवा वनोपज को एकत्रित कर उसे बाजार में बेचकर मिलते हैं। कई बार वे वनों से प्राप्त सामग्री से कोई उपयोगी उत्पाद बनाकर उसे वैकल्पिक आय का…
in Article