छत्तीसगढ़ एक चावल केन्दित संस्कृति की भूमि है ।  इस राज्य मे देश के किसी भी क्षेत्र की तुलना मे धान की सर्वाधिक प्रजातियां पायी जाती हैं। यह एक धान उत्पादक और चावल उपभोगी राज्य है। यहां की संस्कृति धान और चावल पर संधारित है।  जीवन संस्कार के विविध सोपानों और अर्थ व्यवस्था मे धान और चावल की प्रमुखता है।

 

यही कारण है कि छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा कहा जाताहै। यहाँ की कलात्मक अभिव्यक्ति के विभिन्न रूपों में धान के पौधे के वभिन्न अंगों का  प्रयोग यही दर्शाता है कि यहाँ की कला और धान एक दूसरे पर अन्योन्याश्रित हैं। छत्तीसगढ़ी संस्कृति में धान ही धन है वही लक्ष्मी है , जागर अनुष्ठान सम्बन्धी कथानकों में धान  एवं अन्य अनाजों के परस्पर संघर्ष की कथा का बखान है।

 

इस मॉड्यूल में छत्तीसगढ़ में उगाए  जाने वाले धान एवं उसके विभिन्न प्रकार, उपयोग  तथा उससे सम्बंधित विभिन्न सांस्कृतिक प्रथाओं और त्योहारों आदि का वर्णन किया गया है।

 

 

This content has been created as part of a project commissioned by the Directorate of Culture and Archaeology, Government of Chhattisgarh, to document the cultural and natural heritage of the state of Chhattisgarh.