करमा पर्व , मध्यवर्ती भारत की जनजातियों द्वारा मनाया जाने वाला सर्वाधिक प्रिय लोकपर्व है। यह पर्व भाद्रपद षुक्ल पक्ष की एकादषी को मनाया जाता है। वर्तमान समय में ,इस अवसर पर कथावाचन एवं नृत्य -गीतों का आयोजन होता है।   इस पर्व के अवसर पर किया जाने वाला  नृत्य, करमा नृत्य एवं गीत करमा गीत  कहलाते हैं। वस्तुतः यहाँ पर्व जनजातीय समाज में वृक्षों  और मानव जीवन के संबंधों की अंतरंगता को दर्शाता है 

छत्तीसगढ़ में एक मान्यता के अनुसार  करमी नामक वृक्ष (कदम वृक्ष ) पर करमसेनी देवी का वास होता है। उन्हें प्रसन्न करने के लिए करमी वृक्ष की डाल को आँगन में  स्थापित कर पूजा की जाती है और रात भर नृत्य-गान  किया जाता है। प्रचलित मान्यताओं में करमी वृक्ष का आशय कर्म से लिया जाने लगा है। सामान्यतः जनजातियों में कथा वाचन एवं मनोवांछित फल प्राप्ति हेतु कथा श्रवण की परंपरा नहीं मिलती, संभवतः यहाँ राजा करम की कथा का वाचन एवं  श्रवण  एक बाहरी प्रभाव परिलक्षित होता है। भिन्न -भिन्न क्षेत्रो की जनजातियां इसे अपने -अपने तरीके से मनाती हैं। उपरोक्त  गीत से प्रतीत होता है कि करमा पर्व ,मूलतः आदिवासी मानव और करमी वृक्ष के अन्तर्सम्बन्धों की अभ्व्यक्ति के रूप में मनाया जाता रहा होगा  परन्तु कालांतर में उसमे देव कथा ,कर्म और भाग्य का पहलू जुड़ गया। करमा नृत्य -गीतों की अपार लोकप्रियता ने इसे छत्तीसगढ़ी अस्मिता का एक प्रतीक स्वरुप प्रदान कर दिया है।करमा गीतों के अनेक रूप और प्रकार  इसके पारम्परिक गीतों की अपनी जीवन अवधि तो है ही साथ ही समकालीन करमा गीतों ने एक नै पहचान बनाई है। 

इस मॉड्यूल में छत्तीसगढ़ी करमा उत्सव , इस अवसर पर किये जाने वाले नृत्य-गीतों के विभिन्न प्रकारों और रूपों की  पारम्परिक एवं समकालीन विविधताओं को दर्शाने का प्रयास किया गया है। 

करम स्तुति

अतेक दिना करम राजा डांड़े टिकुरे हो                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                       

आएज करम अखरा में ठाड़।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                   

अतेक दिना करम राजा लिंगोटी सिंगोटी हो                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                   

आएज करम घूँठी ले धोती।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                   

अतेक दिना करम राजा पानी के अहार हो                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                   

 आएज करम दूध के अहार।

अनुवाद-

करम राजा तू तो अन्य दिनों में तो जंगल में रहता है                                                                                                                                                                                                                                           

तथा आज तो आँगन में खड़ा है।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                               

करम राजा तू बाक़ी दिनों में तो लंगोटी में रहता है                                                                                                                                                                                                                                                                                                                               

आज तो धोती बाँध ली है                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           

हे करम राजा तू तो प्रति दिन पानी का आहार करता है                                                                                                                                                                                                                                                                                                                     

किन्तु आज दूध का आहार कर रहा है।

 

 

This content has been created as part of a project commissioned by the Directorate of Culture and Archaeology, Government of Chhattisgarh, to document the cultural and natural heritage of the state of Chhattisgarh.