temple

Displaying 1 - 10 of 23
अफ़रोज़ आलम साहिल (Afroz Alam Sahil)
सम्राट अशोक और महात्मा बुद्ध की याद में इतराती रही है। बावजूद इसके बौद्ध सांस्कृतिक विरासत के संबंध में चम्पारण का इतिहास एक ऐसी चीज़ है, जिसे बहुत अधिक नहीं देखा गया है। ऐतिहासिक धरोहरों का क्या महत्व है? अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कैसे पर्यटकों को चम्पारण आने के लिए आकर्षित किया जा सकता है? सरकार को…
in Interview
अफ़रोज़ आलम साहिल (Afroz Alam Sahil)
बिहार के चम्पारण ज़िले की माटी की अपनी विशेषता है। इसका अपना इतिहास रहा है। जहाँ एक तरफ़ ये महात्मा गांधी की कर्मभूमि है वहीं ये धरती भगवान बुद्ध के इतिहास के साथ भी जुड़ी है। ये धरती पूरे विश्व में फैले बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए हमेशा से ख़ास रही है। सम्राट अशोक और महात्मा बुद्ध की याद में…
in Article
अफ़रोज़ आलम साहिल (Afroz Alam Sahil)
बिहार अपने बौद्ध तीर्थ स्थलों के लिए जाना जाता है। जहाँ एक तरफ़ विश्व-प्रसिद्ध वैशाली और बोधगया स्थित है, वहीं वैश्विक स्तर पर प्रासंगिकता वाला चम्पारण भी इसी बिहार में मौजूद है। चम्पारण में बौद्ध काल के कई स्मारक पाए जाते हैं। अशोक द्वारा निर्मित कई स्तंभ आज भी ज़िले के कई हिस्सों में देखे जा सकते…
in Overview
अफ़रोज़ आलम साहिल (Afroz Alam Sahil)
इतिहास हमें कई सबक़ सिखाता है जो इसकी परतों को खोलकर खोजे जाते हैं। यह भविष्य की बेहतरी में मदद करता है। बौद्ध सांस्कृतिक विरासत के संबंध में चम्पारण का इतिहास एक ऐसी चीज़ है, जिस पर और अधिक लिखे जाने की ज़रुरत है। ये वही चम्पारण है, जो एक तरफ़ महात्मा गांधी की कर्मभूमि रही है। वहीं ये धरती भगवान…
in Module
Devika B
India has a rich history of serpent worship. The hooded serpent, known as naga or sarppam, is venerated and worshipped in different parts of the country. In the book The Sun and the Serpent written by religious historian C.F Oldham, serpents are described as demigods who are ‘the celestial serpents…
in Article
Devika B
Serpent worship or ophiolatry is intricately woven into Hindu mythology and forms a significant part of the culture and belief systems of Kerala. Architectural historian James Fergusson in his book Tree and Serpent Worship writes that the serpent played ‘…an important part in the mythology of…
in Overview
Devika B
The polytheistic belief system and religious practices of India have a rich and ancient history which dates back to the Vedic ages. For centuries, Indians have been worshipping the forces of nature, including natural phenomena, trees, animals and the Mother Earth, which is a practice believed to…
in Module
Poorva Arun Salvi
The Hoysala dynasty, thriving in parts of Karnataka from around tenth century CE till the fourteenth century CE, developed their distinctive style of temple architecture, and the footprints of their work are still visible in the form of temples they built in Karnataka region. The herculean task of…
in Article