Fair

Displaying 1 - 9 of 9
Dr. Rajinder Singh
  ग्रामीण क्षेत्रों में मेला, मड़ई की प्राचीन परंपरा रही है। विषेष तिथि में आयोजित होने वाले इन मेलों में देवी-देवता की पूजा व अन्य धार्मिक अनुष्ठान होता है। इसके साथ-साथ बाजार, मनोरंजन, मेल-मिलाप, सामाजिक-सांस्कृतिक पक्षों से जुड़े विविध आयोजन होते हैं। जिसमें स्थानीय व क्षेत्रीय जनसमुदाय की गहन…
in Article
         Fairs /mela are an ineluctable part of rural life. They provide recreation, are usually linked to auspicious cycles in the year, and induce economic activity.  In Chhattisgarh in particular they are organized throughout the year, and in many ways knit the region in identifiable ways.  The…
in Module
Manan Kapoor
in Image Gallery
इस लेख में गुप्तेश्वर द्वारका गुप्त ने प्रारंभिक और समकालीन मड़ई उत्सव का जिक्र किया है। वह बुंदेलखंड के क्षेत्र में उत्सव का वर्णन करते है और त्यौहार का विवरण लाते है।   In this article Gupteshvar Dwarka Gupt juxtaposes the early and contemporary Madai Celebration. He emphaises its celebration in…
in Library Artifacts
राहुल कुमार सिंह
    विविधतापूर्ण छत्तीसगढ़ राज्य में विभिन्न स्वरूप के मेलों का लंबा सिलसिला है, इनमें मुख्यतः उत्तर-पूर्वी क्षेत्र यानि जशपुर-रायगढ़ अंचल में जतरा अथवा रामरेखा, रायगढ़-सारंगढ़ का विष्णु यज्ञ- हरिहाट, चइत-राई और व्यापारिक मेला, कटघोरा-कोरबा अंचल का बार, दक्षिणी क्षेत्र यानि बस्तर के जिलों में मड़ई…
in Article
राहुल कुमार सिंह
  ग्रामीण क्षेत्रो के मेले जनसामान्य के मेल मिलाप का आयोजन एवं मनोरंजन स्थल तो होते ही हैं साथ ही वे व्यापर का महत्वपूर्ण अवसर भी होते  हैं। अधिकांशतः मेले किसी पर्व , त्यौहार , पूजा अदि से सम्बद्ध होते हैं जिनका आयोजन पूर्व निर्धारित तिथियों एवं स्थान पर होता हैं। बस्तर क्षेत्र में प्रचलित हल्बी…
in Module
  This content has been published as part of a project commissioned by the Directorate of Culture and Archaeology, Government of Chhattisgarh, to document the cultural and natural heritage of the state of Chhattisgarh.
in Library Artifacts
  This content has been published as part of a project commissioned by the Directorate of Culture and Archaeology, Government of Chhattisgarh, to document the cultural and natural heritage of the state of Chhattisgarh.
in Library Artifacts